आजादी के अमृत महोत्सव अन्तर्गत स्वाधीनता के महानायकों पर अवधी निबन्ध लेखनश्रृंखला आरम्भ

रिपोर्ट/- जयप्रकाश रावत बाराबंकी संदेश महल समाचार

आजादी के अमृत महोत्सव अन्तर्गत अवधी अध्ययन केन्द्र उत्तर प्रदेश द्वारा स्वाधीनता के महानायकों पर अवधी निबन्ध लेखन श्रृंखला आरम्भ किया है।
उक्त जानकारी देते हुए प्रदीप सारंग अध्यक्ष अवधी अध्ययन केन्द्र उत्तर प्रदेश ने बताया कि नई पीढ़ी में अवधी के प्रति रुझान जगाने, महत्ता समझाने के उद्देश्य से जनपद के एक सैकड़ा विद्यालयों और महाविद्यालयों में अवधी निबन्ध लेखन प्रतियोगिता के आयोजन का निर्णय लिया गया है। जिसका शुभारम्भ राजकीय बालक/बालिका इण्टर कालेज बाराबंकी से किया गया है। अवधी सम्राट डॉ राम बहादुर मिश्रा के संरक्षण में आयोज्य इन प्रतियोगिताओं के आयोजन से जनपद के लगभग पाँच हजार परिवारों में सीधे अवधी पर चर्चा शुरू करा देनी है तथा अवधी बोलने में संकोच जैसे भावों के स्थान पर गौरव अनुभव कराना है।पंकज कँवल सचिव अवधी अध्ययन केन्द्र ने बताया कि छात्रों को किसी एक स्वाधीनता महानायक (महात्मा गाँधी, सरदार वल्लभ भाई पटेल, नेताजी सुभाषचन्द्र बोस, चन्द्रशेखर आजाद, भगत सिंह, अशफाक उल्ला खाँ, पं0 राम प्रसाद बिस्मिल, वीरांगना ऊदा देवी, रानी लक्ष्मीबाई, राजा बलभद्र सिंह चहलारी, राजा गंगाबख्श रावत) पर अवधी में निबन्ध घर से लिखकर लाना है। मूल्यांकन उपरांत चयनित तीन उत्कृष्ट निबन्धों को क्रमशः 500, 300 और 200 रुपये के नकद पुरस्कार सहित प्रमाणपत्र स्मृति चिन्ह प्रदान किया जाएगा।श्री कँवल ने यह भी बताया कि विद्यालयों में प्रथम स्थान पाने वाले निबन्धों में से तहसील स्तर पर चयनित तीन सर्वश्रेष्ठ तीन निबन्धों को पुनः पुरस्कृत किया जाएगा। इसी प्रकार तहसीलों में चयनित तीन सर्वश्रेष्ठ निबन्ध लेखक छात्रों/ प्रतिभागियों को जनपद स्तरीय प्रतियोगिता में सम्मिलित होने का अवसर मिलेगा। जनपद स्तरीय अवधी निबन्ध लेखन प्रतियोगिता में दिए गए विषय पर प्रतिभागी छात्रों को पुनः घर से अवधी निबन्ध लिखकर जमा करना होगा।

error: Content is protected !!