मरने के लिए बनी गौशालाएं लापरवाह डाक्टर के बोल और फिर क्या पेपर में दीजिए निकाल

विमलेश पांडेय लखीमपुर-खीरी संदेश महल समाचार

विकास खण्ड सकरन सांडा के ग्राम पंचायत कीर्तपुर में अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल बनाया गया है जहां पर आए दिन डाक्टरों की लापर वाही के कारण मवेशी बिलख बिलख कर मरने को मजबूर हैं। संदेश महल समाचार पत्र टीम ने जब पड़ताल की तो वहां का नजारा ही कुछ और दिखा।इस गौवंशीय पशुओं की शरण स्थली में जानवर तड़प तड़प कर मर रहे है। गौवंशीय शरणस्थली के कर्मचारियों से पूछने पर बताया कि आज कोई डॉक्टर यहां पर नही आया है।सूचना ग्राम प्रधान प्रतिनिधि राजेन्द्र कुमार को दे दी गई है। दिया। जिन्होंने डॉक्टर अरविंद वर्मा को फोन के माध्यम से बताया फिर भी वहां से कोई नहीं आया। फिर मीडिया कर्मी ने डॉक्टर साहब अरविंद वर्मा से बात की तो उन्होंने बताया कि हम क्या करें। आज ही तो कोई नहीं पहुंच पाया है। और अभी भेज रहे हैं। लेकिन शाम तक कोई नहीं आया। डाक्टर साहब के बोल और फिर क्या पेपर में निकाल दीजिए इससे डॉक्टरों की बातचीत में लगा कि डॉक्टर लापरवाह हैं।

error: Content is protected !!