राशन लेने बाद भी अराजकतत्वों द्वारा अमैहरा कोटेदार को किया जा रहा परेशान

रिपोर्ट/- जेपी रावत मैनपुरी में संदेश महल समाचार

किसी ने सच कहा है सर्वोत्तम ही उत्तम का शत्रु होता हैं। जिसका खामियाजा ग्राम पंचायत अमैहरा के उचित दर विक्रेता महिला कमलेश कुमारी को झेलना पड़ा। एक कहावत है कि एक तो चोरी ऊपर से सीनाजोरी कहने का तात्पर्य है कि एक तो गलती करना उलटे रोब गांठना। जिसका ज्वलंत उदाहरण सामने आया।

राशन वितरण दुकान अमैहरा

बताते चलें कि जनपद मैनपुरी के विकास खंड वेवर अंतर्गत ग्राम पंचायत अमैहरा के चार मजरों में नौरंगाबाद अमैहरा बाकीपुर, जमैयतगंज गांव लगते हैं। जिसमे राशन वितरण व्यवस्था की जिम्मेदारी कमलेश कुमारी के हाथों में है। जिसका सुचारू संचालन भी होता चला आ रहा है। वही राशन वितरण के दौरान किसी खुन्नस को लेकर शीटू पुत्र वीर सिंह और ओमप्रकाश ने अपमान जनक बर्ताव किया। इतना ही नहीं पीआरबी 112 को भी बुला लिया। पुलिस मामले में सक्रियता दिखाते हुए आरोपियों को थाने में बिठा लिया। अंततोगत्वा पुलिस द्वारा कारवाई भी की गई। किन्तु ग्रामीण उपभोक्ता ओम प्रकाश,वीर सिंह, राहुल, पवन, क्षेत्रपाल, बृजेश, चंदन, सचित, विपिन, रामवीर सिंह, निराकार, सौरभ, नितिन,गौरव, अर्जुन आदि लोगों ने राशन न मिलने की शिकायत संबंधित अधिकारियों को लिखित शिकायती पत्र देकर किया। लेकिन वास्तविकता इससे कोसों दूर है। जबकि हकीकत यह है कि राशन ले जाने के बाद भी राशन नही मिलने का आरोप लगा रहे हैं। कुछ उपभोक्ताओं द्वारा राशन डीलर कमलेश कुमारी के पुत्र पर मारपीट करने का आरोप भी लगाया लेकिन मौके पर राशन डीलर का पुत्र मौजूद नहीं था।
उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के में राशन व्यवस्था में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से कोटे की दुकानों पर ई-पॉश मशीन लगाकर राशन देने की व्यवस्था की गई है,लेकिन इससे जहां मुश्किलें बढ़ीं वहीं यह मशीनें वितरण की हकीकत का पर्दाफाश भी करती हैं।