ददौरा गांव में हाईटेंशन तार की चपेट में आकर किशोर व अधेड़ की मौत

रिपोर्ट/- अजय कुमार सिंह बाराबंकी संदेश महल समाचार

रामनगर थाना क्षेत्र के ददौरा गांव में पावर कॉरपोरेशन की लापरवाही से बड़ा हादसा हो गया। चकमार्ग व खेत पर टूटे पड़े हाईटेंशन लाइन के तार की चपेट में आकर किशोर व अधेड़ की मौत हो गई। खबर पहुंचते ही गांव में कोहराम मच गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। विद्युत विभाग के विरुद्ध पुलिस को तहरीर दी गई है।
बताते चलें कि रामनगर थाना क्षेत्र के ददौरा गांव से लालूपुर जाने वाले चकमार्ग के किनारे से हाईटेंशन लाइन गुजरी है। आंधी पानी के दौरान यूकेलिप्टस का पेड़ इस लाइन पर गिरने से तार टूट कर चक मार्ग व खेत पर टूट कर गिर गए। ग्रामीणों ने इसकी सूचना पावर कॉरपोरेशन को दी। लेकिन कोई कर्मचारी मौके पर पहुंचना तो दूर बिजली आपूर्ति तक नहीं बंद की गई।
देशराज को तड़फता देख वहां मौजूद गांव के ही किशोर लवकुश (15) को लगा कि वह पेड़ की डाल में फंस गया है। इस पर किशोर ने देशराज का हाथ पकड़कर खींचने की कोशिश की मगर वह भी करंट की चपेट में आ गया। इस दौरान दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। आसपास खेतों में काम कर रहे लोगों ने दोनों के शव देखे तो दंग रह गए। खबर पहुंचते ही पूरे गांव में कोहराम मच गया। परिजन बिलख पड़े। ग्रामीण पावर कॉरपोरेशन के अधिकारियों की लापरवाही से काफी आक्रोशित थे।
इसकी भनक लगते ही सीओ बीनू सिंह व थाना प्रभारी संतोष सिंह पुलिस बल के साथ ददौरा पहुंच गए। आनन फानन दोनों शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज कर पुलिस ने मामला शांत कराया। मृतक देशराज के भाई हंसराज ने पावर कॉरपोरेशन के अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए कोतवाल संतोष कुमार सिंह को तहरीर दी।
तहरीर में कहा गया है कि, ग्रामीणों ने लाइनमैन से लेकर पावर हाउस तक फोन मिलाया मगर किसी ने रिसीव नहीं किया। आधे गांव में जर्जर तारों व खंभों के सहारे बिजली आपूर्ति करके लोगों की जान खतरे में डाली जा रही है। कोतवाल संतोष कुमार सिंह ने बताया कि, तहरीर पर जांच कर कार्रवाई होगी।