अफसरों का हुनर-कागज पर बना देते शौचालय ये इज्जत घर तो है कमाई का जरिया

रिपोर्ट
उमेश तिवारी बाराबंकी संदेश महल समाचार

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के विकास खंड रामनगर की ग्राम पंचायतों में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) योजना का बुरा हाल है। अधिकांश ग्राम पंचायतों में शौचालय तो बन रहे हैं लेकिन निर्माण पूरा नहीं कराया जा रहा है। ग्रामीण उसे प्रयोग तक कर पा रहे हैं। अफसर कागजों पर गांव को ओडीएफ दिखाकर अपनी पीठ ठोंक चुके हैं।

अधूरा शौचालय

असलियत में शौचालय कितने पूर्ण हो पाए हैं इसकी पोल यह तस्वीरें खोल रही हैं। विकासखंड रामनगर की ग्राम पंचायत लैन में इधर बने शौचालयों में न तो छत ढाली गई है और न ही गड्ढे बनाए गए हैं। केवल खानापूर्ति के लिए शौचालयों का ढांचा खड़ा कर दिया गया है।अधिकांश शौचालय अधूरे पड़े हैं। किसी में दरवाजा नहीं लगा है तो किसी में गड्ढे ही नहीं खोदे गए हैं। इसी कारण ग्रामीण खुले में शौच जाने को मजबूर हैं।
वर्तमान समय में ग्राम पंचायतों में निर्माणाधीन शौचालयों की जो स्थिति है उसे देखकर इसका सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि अधिकारी केवल खानापूरी ही की हैं। कागजों पर शौचालय पूर्ण दिखाकर सरकारी धन की निकासी हो गई है। इसका फायदा ग्रामस्तरीय अधिकारी व प्रधानों ने बाखूबी उठाया।

error: Content is protected !!