स्नातक और शिक्षक सीट के लिए उम्मीदवारों की किस्मत मतपेटियों में बंद

रिपोर्ट
दियांश कुमार
लखीमपुर-खीरी संदेश महल

लखीमपुर जिला पंचायत बूथ पर स्नातक एमएलसी चुनाव में वोट डालने को लाइन लगकर अपनी बारी का इंतजार करत –
लखीमपुर खीरी। लखनऊ खंड स्नातक एवं शिक्षक निर्वाचन 2020 के लिए मंगलवार को सुबह आठ बजे से 19 मतदान केंद्रों पर बनाए गए 61 पोलिंग बूथों पर मतदान प्रारंभ हुआ, जो शाम पांच बजे तक चला। डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि शाम पांच बजे तक स्नातक एमएलसी के लिए कुल 44.30 प्रतिशत मतदान हुआ, जबकि शिक्षक एमएलसी के लिए 75.46 प्रतिशत वोट डाले गए। इसके साथ ही स्नातक एमएलसी के लिए चुनाव मैदान में किस्मत आजमा रहे 24 उम्मीदवारों और शिक्षक एमएलसी के लिए 11 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला मतपेटियों में बंद हो गया। मतपेटियों को रात में ही लखनऊ के मतगणना स्थल पर भेज दिया गया, जहां पर तीन दिसंबर 2020 को मतगणना होगी।
ब्लॉक कार्यालय, नगर पालिका एवं नगर पंचायत कार्यालयों में बने पोलिंग बूथों पर सुबह आठ बजे से मतदान प्रारंभ हुआ। शुरुआत के कुछ घंटे मतदान प्रतिशत धीमा रहा, जिससे दोपहर 12 बजे तक स्नातक के लिए 17.18 प्रतिशत और शिक्षक के लिए 28.10 प्रतिशत वोट डाले जा सके थे, जिसके बाद दो बजे तक स्नातक का 32.06 प्रतिशत और शिक्षक के लिए 52.42 प्रतिशत मतदान हुआ। इसके बाद मतदान में तेजी आई। जिला पंचायत के पोलिंग बूथ पर मतदान के दौरान एक महिला के पास परिचय पत्र न होने पर पीठासीन अधिकारी ने वोट डालने से मना कर दिया, जिससे कुछ देर भाजपा नेताओं ने हंगामा कर दिया। एसडीएम सदर डॉ अरुण कुमार सिंह ने हंगामा कर रहे नेताओं को बाहर निकाल दिया, जिसके बाद मतदान पुन: सुचारू हुआ। जिला निर्वाचन अधिकारी/डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह और एसपी विजय ढुल ने विभिन्न मतदान केंद्रों व पोलिंग बूथों का भ्रमण कर चुनाव ड्यूटी पर लगे मतदान कार्मिक/अधिकारियों को निष्पक्ष व शांतिपूर्ण ढंग से मतदान कराने के निर्देश दिए और निर्वाचन प्रक्रिया का जायजा लिया। दोनों अधिकारियों ने जिला पंचायत कार्यालय, खंड विकास कार्यालय लखीमपुर, बेहजम, मितौली, नकहा, ईसानगर, नगर पंचायत ओयल व धौरहरा का भ्रमण किया। सेक्टर मजिस्ट्रेट एवं माइक्रो आब्जर्वर से चुनाव प्रक्रिया का अपडेट लेते रहे।
स्नातक एमएलसी के लिए 24 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें भाजपा के इंजीनियर अवनीश कुमार सिंह, कांग्रेस के बृजेश कुमार सिंह, सपा के रामसिंह राणा समेत वकील अहमद अंसारी, नीलम सरोज, पंडित मनीष महाजन, अजय कुमार श्रीवास्तव, अवनीश कुमार, आशीष आर्या, एजाज अहमद नकवी, क्रांति कुमार, कांति सिंह पत्नी एसपी सिंह, क्रांति सिंह, चंद्रमणि सिंह, जगजीवन सिंह, बाबा हरदेव सिंह, बृजकिशोर शुक्ला, मनोज कुमार वर्मा, रिजवान, विजय कुमार सिंह, श्रवण त्रिपाठी, डॉ सत्येंद्र पांडेय, सुरेंद्र कुमार गौतम, हरीश शुक्ला शामिल हैं। शिक्षक एमएलसी के लिए उमाशंकर चौधरी, उमेश द्विवेदी, उमाशंकर चौधरी, बीएन खरे, डॉ मनोज पांडेय, डॉ महेंद्र नाथ राय, डॉ आरपी मिश्रा, राकेश शुक्ला, शाह आलम खान, सोहन लाल वर्मा और हवलदार सिंह यादव प्रत्याशी रहे।
निर्वतमान स्नातक एमएलसी कांति सिंह से पहले उनके पति एसपी सिंह दो बार स्नातक एमएलसी रहे हैं। इससे उनके परिवार का 18 साल से इस सीट पर कब्जा रहा है। इस बार उनके लिए मुकाबला कड़ा रहने की उम्मीद जताई जा रही है।

error: Content is protected !!