चार वर्षीय मासूम रिशु के अपहरण बाद हत्या

ब्यूरो रिपोर्ट
आगरा संदेश महल समाचार

उत्तर प्रदेश के एटा में चार वर्षीय मासूम की अपहरण के बाद के हत्या के मामले में खुलासा हुआ है। पिता ने जिसको अपने घर में आश्रय दिया, उसी ने बेटा छीन लिया। इकलौते बेटे की हत्या होने के बाद माता-पिता पूरी तरह से टूट गए हैं। अब एक बेटी घर में बची है।नौकरी लगवाने को लेकर पीड़ित पिता से आरोपी की नोकझोंक हुई थी। फिर बेटे का अपहरण करके हत्या कर दी।
मासूम रिशु के पिता ओमवीर सिंह जवाहर तापीय परियोजना मलावन प्लांट में मजदूरी करते हैं। बताया कि सात दिन से टिंकू उनके घर में रहकर काम कर रहा था। खाना-पीना भी घर पर ही खा रहा था। टिंकू गांव में करीब तीन साल से रहकर मजदूरी का कार्य करता आ रहा था। ऐसा कभी नहीं लगा कि इतनी बड़ी वारदात को अंजाम दे देगा। बताया कि रिशु इकलौता बेटा था। अब 8 साल की एक बेटी बची है। मां बार-बार बेटे को याद करके बेहोश हो जाती है। पिता भी पूरी तरह से टूट चुका है।
एसएसपी उदय शंकर सिंह ने अनुसार गांव कुंदनपुर में टिंकू की रिश्तेदारी थी। इसके चलते आता-जाता था और मजदूरी भी कर लेता था। यहां 10 साल पहले से आना-जाना था, लेकिन 3 साल से निरंतर रह रहा था। ओमवीर के घर पर ज्यादातर समय रहता था और बच्चों के लिए खाने-पीने की चीजें लाता रहता था। यही वजह रही कि वह आसानी से अपहरण कर ले गया और वारदात को अंजाम दे दिया।
साइकिल से बच्चे का अपहरण किया गया था। आशंका है कि बच्चे को कुछ खिलाने-पिलाने के बहाने घर से आरोपी साइकिल पर बैठाकर ले गया। बाद में फिरौती का विचार आया। बच्चे को साइकिल से ले जाते सीसीटीवी कैमरे में भी उसे देखा गया है।बच्चे का अपहरण करने के बाद गांवों के कच्चे और पगडंडी वाले रास्तों से होकर आरोपी सीधे काली नदी पर पहुंचा था। यहां गर्दन पकड़कर नदी के पानी में बच्चे का मुंह डुबो दिया। हत्या करके शव को छोड़कर फरार हो गया। इसके बाद फोन करके पिता से 3 लाख रुपये फिरौती मांगी।