पुलिस की लापरवाही चलते वाहिद की मौत सपा नेताओं ने लगाया आरोप

रिपोर्ट
सचिन
बरेली संदेश महल समाचार

सिंचाई विभाग की नलकूप कॉलोनी से चोरी करके भाग रहे चोर को पकड़ कर पेड़ से बांध दिया। और उसकी पिटाई भी की। जिसकी सूचना यूपी 112 पुलिस को दी तो पीआरवी पर तैनात पुलिस कर्मी उसे अस्पताल ले जाने के बजाय थाने ले गए। जहां चार घंटे तक वह घायल पड़ा रहा। जहां दोनों पक्षों ने किसी कार्रवाई से इनकार कर दिया। इसके बाद घरवाले वाहिद को घर ले आए। वहीं उसकी मौत हो गई।
गौरतलब हो कि बाद इसके युवक के परिवार और मोहल्ले के लोगों ने नलकूप कॉलोनी में हंगामा किया तो तनाव फैल गया।सूचना पर पहुंचे सीओ रामप्रकाश और एसडीएम केके सिंह के साथ भमोरा, सिरौली, अलीगंज और बिशारतगंज थाने की फोर्स बुला लिया गया। भीड़ को जैसे-तैसे शांत किया गया। वाहिद के भाई नासिर ने रिटायर्ड दरोगा के बेटे विक्रम समेत सात नामजद और तीन अज्ञात के खिलाफ तहरीर दी। पुलिस ने विक्रम को हिरासत में ले लिया है।घटना के बाद बड़ा सवाल यह है कि जब पुलिस को पता था कि वाहिद को पेड़ से बांधकर पीटा गया है तो पुलिस उसे अस्पताल क्यों नहीं ले गई। फिर थाने ले जाकर चार घंटे तक तड़पने को क्यों छोड़ दिया। मामले में थाने पहुंचे सपा नेताओं ने भी पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि पुलिस की लापरवाही की वजह से युवक की जान गई। यदि समय पर उसे इलाज मिल जाता तो आज वह जिंदा होता।

 

เกมยิงปลา slot gacor เกมสล็อต slotonline ยิงปลา