पंखिया गैंग का गबरु ग्रामीणों की हिम्मत के आगे हुआ बेबस पुलिस पूछताछ में उगले अहम सुराग

रिपोर्ट
जेपी रावत
बरेली संदेश महल समाचार

पंखिया गैंग ग्रामीणों की हिम्मत के आगे हुआ बेबस हो गए। काफी होशियारी के बाद भी उनका एक साथी पकड़ में आ गया।घटना के दौरान पूरा गांव गैंग की दहशत से कांप उठा था।

पकड़ गया गबरु

पकड़े गए बदमाश गबरू से पूछताछ में पुलिस को गैंग के बारे में काफी अहम सुराग हाथ लगे हैं। गबरू ने बताया कि वे लोग अक्सर शिवपुरी और आसपास के गांवों में आते रहते हैं। सूर्य प्रताप के घर पर पहले से नजर थी। तीन लोग बाइक से शिवपुरी पुलिया पर आए थे। पुलिया पर पहले शराब पी और फिर कपड़े उतारकर शरीर पर तेल लगाया। इसके बाद आठ फुट ऊंची दीवार फांदकर सूर्य प्रताप के घर में घुस गए। घटना के दौरान जब उन्हें ग्रामीणों के आने का अहसास हुआ तो दीवार कूदकर भागने लगे। बाकी दोनों साथी तो भाग निकले पर वह दीवार पर चढ़ने के बावजूद कांटेदार तारों में फंसकर गिर गया और गांव वालों के हाथ लग गया। ग्रामीणों का कहना था कि तीनों बदमाश सिर्फ नेकर पहने थे। बाकी दोनों बदमाशों को भी पकड़ लेते पर उनके शरीर पर इतना तेल लगा था कि पकड़ते ही वे फिसल जाते थे।
बरेली, बदायूं और शाहजहांपुर के सीमावर्ती इलाके में रामगंगा किनारे बसे पंखियों के गांवों में कई नामी बदमाश हैं। नई पीढ़ी के पंखिया भी अपराध की दुनिया में उतर जाते हैं। हालांकि ये अपने गांव या आसपास इलाकों में वारदात करने से परहेज करते हैं। ये अक्सर दूसरे प्रांतों और शहरों में ही लूट, डकैती, एटीएम काटने की वारदातें करते हैं। स्थानीय पुलिस से दोस्ताना ताल्लुकात रखते है। यहां अपराध न करने और चढ़ावा देते रहने की वजह से पुलिस कभी अपनी ओर से इन पर हाथ नहीं डालती है। लंबे समय बाद पंखिया गैंग ने स्थानीय स्तर पर वारदात की और उसमें फंस गए।
गौरतलब हो कि जिला बरेली के फतेहगंज पूर्वी थाना क्षेत्र के शिवपुरी गांव के एक घर में लूटपाट के दौरान पंखिया गिरोह के बदमाशों ने फायरिंग कर दी।

घायल बालिका

गोली लगने से एक महिला और उसका मासूम बच्चा घायल हो गया। गांव वालों के बदमाशों को घेरने के बाद पुलिस ने एक बदमाश को तो पैर में गोली मारकर दबोच लिया लेकिन दो बदमाश माल लेकर फरार हो गए। रात में ही एसएसपी ने घटनास्थल का मुआयना किया।शिवपुरी में सुरेंद्र सिंह भदौरिया ने गांव से करीब दो सौ मीटर दूर मकान बना रखा है जहां वह चारों बेटों के परिवारों के साथ रहते हैं। मकान के जिस हिस्से में उनके बेटे सूर्य प्रताप का परिवार रहता है।तीन बदमाश दीवार फांदकर अंदर घुस आए। बदमाशों के आने की भनक लगते ही सूर्य प्रताप की पत्नी ज्योति ने कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर लिया मगर बदमाशों ने लोहे की रॉड से दरवाजा तोड़ दिया। एक बदमाश ने तमंचे से गोली चला दी जो ज्योति की हाथों की उंगलियाें और अर्पित के सिर से रगड़ खाती हुई निकल गई। बदमाशों ने इसके बाद पर ज्योति के शरीर पर मौजूद गहने उतरवा लिए। एक संदूक को भी तोड़कर सारा सामान निकाल लिया। बदमाशों ने रॉड से भी ज्योति और सूर्य प्रताप की पिटाई की। मौका पाते ही सूर्य प्रताप ने फोन करके परिवार के दूसरे लोगों को सूचना दी तो उन्होंने गांव वालों को इकट्ठा कर पूरे घर की घेराबंदी कर ली। सूचना पर कुछ ही देर में पुलिस भी पहुंच गई। दो बदमाश भाग निकले लेकिन पुलिस ने एक को पैर में गोली मारकर पकड़ लिया। जो पुलिस हिरासत में हैं।

error: Content is protected !!