शहनाई की धुन सुनने को मिलेगी अब अप्रैल में

 

वेद विभूषण सन्देश जी
अयोध्या धाम

  प्रस्तुतकर्ता
संदेश महल समाचार

 

पौष महीने में खरमास के कारण विवाह के मुहूर्त नहीं होंगे। पौष का महीना 15 दिसंबर से शुरू हो रहा है।17 जनवरी को गुरु अस्त हो जाएंगे और 14 फरवरी को उदय होंगे। उन्होंने यह भी बताया कि 9 फरवरी को शुक्र अस्त होंगे और 18 अप्रैल को उदय होंगे। विवाह कार्य के लिए गुरु और शुक्र दोनों का उदय होना अति जरूरी है। विवाह के सबसे कम मुहूर्त अप्रैल में पांच दिनों का है, जबकि सबसे अधिक जुलाई और अगस्त महीने में 15- 15 दिनों के मुहूर्त हैं।

शादियों के मुहूर्त पर भी लगाम लगने वाली है। अब 2021 में ही शहनाई बजेगी। अगले साल के पहले तीन महीनों में कोई भी शुभ मुहूर्त नहीं है।

11 दिसंबर के बाद विवाह के शुभ मुहूर्त

समाप्त हो रहे हैं। इसके बाद अगले साल 24 अप्रैल से विवाह के शुभ मुहूर्त होंगे। 2021 में जनवरी, फरवरी और मार्च में शादी के लिए एक भी शुभ मुहूर्त नहीं हैं। वहीं 2021 में कुल 97 दिन ही शहनाई बजेगी।

त्रिस्पर्शा एकादशी का अद्भुत संयोग

आप सभी भगवत् बन्धुवों को सूचित करते हुये परमाह्लाद हो रहा है की 11 दिसम्बर शुक्रवार को लगने वाली त्रिस्पर्शा एकादशी है क्योंकि उसी एकादशी द्वादशी त्रयोदशी तीनों का अद्भुत सयोंग है इसका व्रत उपवास करने से सहस्त्र एकादशी व्रत का फल प्राप्त होता है अतः सभी भगवत् भक्तों से सादर निवेदन है की इस एकादशी का व्रतोपवास अवश्य करें।

error: Content is protected !!