जिलाधिकारी अविनाश कृष्ण ने विशेष संचारी रोग एवं दस्तक अभियान के तहत की बैठक

 

ब्यूरो चीफ
हिमांशु यादव
मैनपुरी संदेश महल समाचार

जनपद मैनपुरी जिलाधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह ने विशेष संचारी रोग नियत्रंण अभियान एवं दस्तक अभियान केे तहत अन्तविर्भागीय समन्वय समिति की बैठक में कहा कि गरीबों को वैक्टर, मच्छर जनित बीमारियों से बचाव हेतु प्रदेश सरकार द्वारा 01 अप्रेल से संचारी रोग नियंत्रण अभियान संचालित किया जा रहा है, इस अभियान को सफल बनाने के लिए ब्लाॅक स्तरीय अन्तविर्भागीय बैठक दि. 20 मार्च तक आयोजित होनी थी लेकिन प्र. चिकित्साधिकारी जागीर द्वारा इसमें कोई रूचि नहीं ली गयी और नाहीं उनके द्वारा कोई तैयारी की गयी है, जिस पर प्र. चिकित्साधिकारी जागीर को चेतावनी जारी करने के निदेर्श देते हुये कहा कि सभी प्र. चिकित्साधिकारी, सम्बन्धित विभाग के अधिकारी आपस में समन्वय स्थापित कर कार्य करें, अभियान चलाकर गांव-गांव जल निकासी के उचित प्रबन्ध किये जायें, झाड़ियों की प्राथमिकता पर कटाई करायी जाये, किसी भी दशा में कहीं भी नालियों में जल भराव की स्थिति न रहे, प्रतिदिन नालियों की सफाई हो, नियमित रूप से दवा का छिड़काव कराया जाये, लोगों को वैक्टर जनित बीमारियों से बचने हेतु जागरूक किया जाये, स्वास्थ्य, नगर निकाय, पंचायती राज विभाग के अधिकारी आपस में समन्वय स्थापित कर कार्य करें, शिक्षक, आशा, आंगनवाड़ी कायर्कत्री संयुक्त रूप से अपने क्षेत्र में लोगों को मच्छर जनित बीमारियों से बचने वाली सावधानियों के बारे में जागरूक करें।

श्री सिंह ने कहा कि वेक्टर, मच्छर जनित बीमारियों की रोकथाम हेतु सभी संबंधित अधिकारी आपस में समन्वय स्थापित कर माइक्रो प्लान के अनुसार कार्य करें, संचारी रोगों के बचाव, रोकथाम हेतु शहरी-ग्रामीण क्षेत्र में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए, गत वषर् जिन क्षेत्रों में वैक्टर जनित बीमारियों से ग्रसित मरीज मिले हैं उन्हें चिन्हित कर नियमित रूप से फॉगिंग, सफाई का कायर् कराया जाए, तालाबों की सफाई, झाड़ियों की कटाई, स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता पर भी ध्यान दिया जाए। उन्होने प्र. चिकित्साधिकारियों के साथ ही स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारियों से कहा कि वैक्टर, जल, जनित रोगो तथा उष्ण मौसम से सम्बन्धित रोगों से सम्बन्धित रोकथाम एवं नियत्रंण गतिविधियों हेतु प्रभावी कायर्वाही करें, फ्रंट लाईन वकर्र द्वारा उपलब्ध करायी गयी लक्षणयुक्त व्यक्तियों की सूची में उल्लिखित रोगियों की लक्षण के अनुसार तत्काल जांच की जाये। उन्होने अधिशाषी अधिकारी नगर निकाय, जिला पंचायत राज अधिकारी को निदेर्शित करते हुये कहा कि शहरी क्षेत्र से लेकर ग्रामीण क्षेत्र तक नियमित रूप से साफ-सफाई, फांगिग का कायर् कराया जाये, नियमित रूप से जल-भराव वाले स्थानों पर दवा का छिड़काव हो, हैडपंपों के पाइप को चारों ओर से कंकरीट से बंद कराया जाये, जल निकासी हेतु सोखपिट का निमार्ण हो, उथले हैडपंपों का प्रयोग रोकने के लिए उन्हे लाल निशान से चिन्हित किया जाये, खुली नालियों को ढकने की व्यवस्था की जाये। उन्होने पशु चिकित्साधिकारी से कहा कि पशु पालकों को पशु बाड़ों में साफ-सफाई रखने हेतु प्रेरित किया जाये, सूकर बाड़े मनुष्य आवादी से दूर हों, सूकर बाड़ों की साफ-सफाई, कीट नाशक छिड़काव एवं मच्छर-रोधी जाली से ढकने हेतु सूकर पालकों को प्रेरित किया जाये, कृषि विभाग के अधिकारी समस्त ग्राम पंचायतों में चूहा, छछूदंर की रोकथाम हेतु प्रभावी कायर्वाही करें।   

मुख्य विकास अधिकारी विनोद कुमार ने जिला बेसिक शिक्षाधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी को आदेशित करते हुए कहा कि विद्यालय परिसर के साथ-साथ विद्यालय के चारों ओर 100 मीटर की परिधि में साफ-सफाई का कार्य प्राथमिकता पर कराया जाए, विद्यालयों के आस-पास कहीं भी जल-भराव न रहे, नालियों की नियमित रूप से सफाई हो, विद्यालय परिसर में शिक्षा विभाग एवं विद्यालय के आस-पास पंचायती राज विभाग सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। उन्होंने कहा कि जनपद के समस्त 1909 प्राथमिक विद्यालयों का जिला बेसिक शिक्षाधिकारी माइक्रो प्लान तैयार कर प्रस्तुत करें, सप्ताह में 01 दिन क्षेत्र की स्वच्छताग्रही विद्यालय में 01 घंटे स्वच्छता संबंधी जागरूकता कायर्क्रम आयोजित कर छात्र-छात्राओं को वेक्टर, मच्छर जनित बीमारी से बचने के लिए क्या करें-क्या न करें, के बारे में जागरूक करें। उन्होंने प्र. चिकित्साधिकारियों से कहा कि आपके ऊपर जनपद की 98 प्रतिशत से अधिक आबादी के स्वास्थ्य का जिम्मा है, इसलिए आप अपने दायित्वों के प्रति सजग रहकर कार्य करें, सामुदायिक, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर ओ.पी.डी. के उपरांत 02 बजे के बाद आशा, ए.एन.एम. की बैठक करें, बैठक में आशा, ए.एन.एम. से विस्तृतर् चर्चा की जाए, उनके रिकॉर्ड का भी निरीक्षण किया जाए।      

            मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ.पी.पी.सिंह ने बताया कि दि. 01 अप्रैल से 30 अप्रैल तक संचारी रोग नियत्रंण अभियान एवं 17 अप्रैल से 30 अप्रैल तक दस्तक अभियान संचालित होगा, इस दौरान 23, 24 मार्च को समस्त नगर निकायों पर संवेदीकरण, दि. 23 से 26 मार्च तक ब्लाॅक स्तरीय ग्राम प्रधान, ग्राम विकास अधिकारी संवेदीकरण, दि. 27 मार्च को विशेष संचारी रोग नियत्रंण अभियान हेतु ब्लाॅक एवं जनपद स्तरीय माइक्रो प्लान, दि. 07 अप्रैल को दस्तक अभियान हेतु ब्लाॅक स्तरीय माइक्रो प्लान तथा 10 से 13 अप्रैल के मध्य दस्तक अभियान के संचालन हेतु ब्लाॅक चिकित्सालय पर आशा, ए.एन.एम. तथा आंगनबाड़ी कायर्कत्रियों के संवेदीकरण का कार्य सम्पादित होगा।    

     बैठक में अपर जिलाधिकारी राम जी मिश्र, प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी एस.एन. मौयर्, मुख्य चिकित्साधीक्षक महिला डा. ए.के. पचैरी, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. संजीव राव बहादुर, डा. राजीव राय, जिला विद्यालय निरीक्षक मनोज कुमार वर्मा, उप कृषि निदेशक डी.वी.सिंह, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी दीपिका गुप्ता, जिला पंचायत राज अधिकारी अविनाश चन्द, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी प्रमोद कुमार शर्मा, जिला कृषि अधिकारी सूयर्प्रताप सिंह, अधिशाषी अधिकारी नगर पालिका लाल चन्द भारती, परियोजना अधिकारी डूडा आर.के. सिंह, स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी रविन्द्र गौर, डी.एम.सी. यूनिसेफ संजीव पाण्डेय, एस.एम.ओ., समस्त खंड विकास अधिकारी, प्र. चिकित्साधिकारी,  स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी आदि उपस्थित रहे, बैठक का संचालन जिला मलेरिया अधिकारी एस.एन. सिंह ने किया। 

เกมยิงปลา slot gacor เกมสล็อต slotonline ยิงปลา