श्री चन्द्रशेखर आश्रम गोपालपुर में पांचवें दिन भगवान कृष्ण लीला का वर्णन, कथा में उमड़े श्रद्धालु

 

हिमांशु यादव
मैनपुरी संदेश महल समाचार

जनपद मैनपुरी में श्रीचन्द्रशेखर आश्रम गोपालपुर स्थित श्रीमद्भागवत कथा के पांचवें दिन कथावाचक पंडित रविकिशोर शास्त्री ने भक्तों को भगवान श्रीकृष्ण की बाल लीला का वर्णन सुनाया। उन्होंने कहा कि भगवान कृष्ण के पैदा होने के बाद कंस उसको मौत के घाट उतारने के लिए अपनी राज्य की सर्वाधिक बलवान राक्षसी पूतना को भेजता है। पूतना वेश बदलकर भगवान श्रीकृष्ण को अपने स्तन से जहरीला दूध पिलाने का प्रयास करती है। लेकिन भगवान श्रीकृष्ण उसको मौत के घाट उतार देते हैं। उसके बाद कार्तिक माह में ब्रजवासी भगवान इंद्र को प्रसन्न करने के लिए पूजन का कार्यक्रम करने की तैयारी करते हैं। भगवान कृष्ण द्वारा उनको भगवान इंद्र की पूजन करने से मना करते हुए गोवर्धन महाराज की पूजन करने की बात कहते हैं। इंद्र भगवान उन बातों को सुनकर क्रोधित हो जाते हैं। वह अपने क्रोध से भारी वर्षा करते हैं। जिसको देखकर समस्त ब्रजवासी परेशान हो जाते हैं। भारी वर्षा को देख भगवान श्री कृष्ण गोवर्धन पर्वत को अपनी कनिष्ठा अंगुली पर उठाकर पूरे नगरवासियों को पर्वत को नीचे बुला लेते हैं। जिससे हार कर इंद्र एक सप्ताह के बाद वर्षा को बंद कर देते हैं। जिसके बाद ब्रज में भगवान श्री कृष्ण और गोवर्धन महाराज के जयकारे लगाने लगते हैं। मौके पर भगवान को छप्पन भोग लगाया गया। इस अवसर पर यज्ञपति सतेंद्र कुमार मिश्रा,अपर्णा मिश्रा व परीक्षित जयकुमार मिश्रा व सुखदेवी द्वारा आचार्य व वेदी का पूजन किया गया। आचार्य द्वारा भजन गाकर श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया गया। प्रसाद की सेवा एडवोकेट सुमित तिवारी,निशू मिश्रा एवं कई ग्रामीणों द्वारा की गई। इस अवसर पर सुरेंद्र मिश्रा,अवधनारायण,ऋषिकेश मिश्र,सौरभ यादव, दुष्यंत दीक्षित,जीतू यादव पूर्व प्रधान,प्रदीप मिश्रा,अखिलेश मिश्रा,विजय मिश्रा,श्रीप्रकाश मिश्रा ,निखिल आदि मौजूद रहे।

เกมยิงปลา slot gacor เกมสล็อต slotonline ยิงปลา